chhutpankikavitayein

www.hamarivani.com

शनिवार, 15 मार्च 2008

घुघुआ मन्ना

घुघुआ मन्ना एक तरह का खेल है, बच्चों के साथ बडों का खेल। बड़े ख़ुद पीठ के बल लेट जाते हैं और अपने घुटने मोड़ कर बच्चे को अपने पंजे पर बिठाते हैं। फ़िर घुटनों से पंजे को झुलाते हुए बच्चे को उस पर झुलाते हैं। "पुरान घर गिरे, नया घर उठे " पर बच्चे को लिए -लिए पंजे को ऊपर और ऊपर ले जाते हैं। यह इतना मजेदार और आरामदायक होता है, झूले की तरह कि बच्चे तो उसी पर सो भी जाते हैं। बचपन में मेरी बेटी तोषी के सोने की तो वही जगह थी। आप भी इससे परिचित होंगे। लीजिए, देखिए तो,

घुघुआ मन्ना, उपजे धन्ना
तोषी खाए दूध -भतवा
कुतवा चाटे पतवा
आबे दे रे कुतवा
मारबौउ दू लतावा
गे बुढ़िया बर्तन बासन
सब सरिया के तू रखिहे
पुरान घर गिरे
नया घर उठे

11 टिप्‍पणियां:

vimal verma ने कहा…

गज़ब है, बचपन को इस तरह याद दिलाया बहुत बहुत शुक्रिया, ऊपर की दो लाइनें बचपन में सुनी थी,मज़ गय,ऐसी बते आपसे सीधे संवाद करती हैं,मज़ा आ गया

neeshoo ने कहा…

अच्छा लगा पढ़कर। गांव की तस्वीर उभर कर आखओं के सामने आगयी । बहुत ही सुन्दर प्रस्तुतीकरण.....

गुस्ताख़ ने कहा…

विभा जी सुशांत जी से आपके बारे मं काफी सुन चुका था। आपके ब्लाग पर आकर यह तथ्य मुकम्मल हो गया। मैं भी मिथिला से ही हूं... मधुबनी से। अजय जी से गोवा में मुलाकात हुई थी। आपके संदर्भ में भी ज्यादा जान पाया तभी। मेरा भी एक बलाग है गुस्ताख नाम से। घुघुआ मना.. उपजे धना यह मेरी मां मुझे लोरी के रूप में सुनाती थी .. आज भी लाड़ से सुना देती है, जब फुरसत मे घर जाता हूं। मां की याद आ गई। शुक्रिया। फिलहाल डीडी न्यूज़ में कॉरेस्पॉंडेंट हूं।

अतुल ने कहा…

बहुत बढिया. कुमांउनी के घुघुती बासुती का अर्थ भी यही होता है. उनसे भी मिलिए.

Vibha Rani ने कहा…

gustakhi maaf, magar poochhana chahoongi ki madhubani mein kaha? main bhi madhubani se hii hoon kishorilalchowk se. ap mujhe mere e-mail par bhi sampark kar sakte hain- gonujha.jha@gmail.com par

Swapnil ने कहा…

khantam khai gang bahai
ganga ji ne baloo dini
baaloo ne humko ghaas dini
ghaas ne humko gaay dini
gaay ne humko doodh dina
doodh ki humne kheer banayi
kheer sabne khayi - papa ne, mummy ne, baba ne, dadi ne, dada ne (here the child enlists all his/ her near and dear ones)

fir 'bholu' (assuming the child's name is Bhalu) ki baraat chadi,
tu tur tu tur tu tur tu tur

(At this time, the kid who is sitting on the legs of the elder person is raised up in the air by raising the legs)

Swapnil ने कहा…

1, 2, 10
oopar se ayi bus
bus ne dee seetee
oopar se ayaa TT
TT ne kaati parchi
oopar se aya darzi
darzi ne silee pant
oopar se ayaa tank
tank ne maara gola
mera rang de basanti chola!

Swapnil ने कहा…

nimbu ki palet mein
aam ka achar hai
budhiya beemar hai
buddha naraaz hai
aaja mere doctor
tera intezaar hai

Swapnil ने कहा…

zip zap zoo
kabhi oopar
kabhi neeche
kabhi dayein
kabhi baein
kabhi aage
kabhi peechee
kabhi thappad
kabhi ghoosein

(while saying the last two lines, the two kids forming the pair reciting this hit each other softly and usually, end up giggling)

Swapnil ने कहा…

A poem which I always recited in full volume everyday before leaving for school, till about standard three. My nani's claim to fame is that I could recite this poem at the age of one and a half.

He bhagwan, he bhagwan
Hum sab baalak hein naadaan
Vidya buddhi kuchh nahi paas
Humein bana lo apna daas

Haath jod kar khade hue hein
Charano mein hum pade hue hein
Humein sahara dete rehna
Khabar hamari lete rehna

Lo hum sheesh jhukate hein
Hum vidya padhne jaate hein... !

Swapnil ने कहा…

hum sainik hein, hum sainik hein
ladne ko ruN mein jaenge
kuchh apne haath dikhaenge
hum shoorveer kahlaenge

ghamasaan hum samar karenge
naam jagat mein amar karenge
hum sa na bahadur koi hai
jo kahte kar dikhlaenge

[I have lost the remaining part which had this line - ripuon ke chhakke chhotenge]

If any one knows this poem, please complete it.