chhutpankikavitayein

www.hamarivani.com

मंगलवार, 27 मई 2008

इंडिया गेट पे दो सिपाही

अभी- अभी दो दिन पहले दिल्ली के इंडिया गेट पर गई थी। वहाँ पहुँची कि हठात में सुनी यह कविता मुंह से फ़ुट परी। आपके लिए भी हाजिर है-

मोटू सेठ,
सड़क पर लेट
गाडी आई,
फट गया पेट
गाडी का नंबर २८
गाडी पहुँची
इंडिया गेट
इंडिया गेट पे सिपाही
मोटू जी की खूब पिटाई

5 टिप्‍पणियां:

mamta ने कहा…

विभा जी कुछ दिन पहले हमने भी कुछ ऐसी ही बचपन की कविता अपने ब्लॉग पर लिखी थी।

http://mamtatv.blogspot.com/2008/03/blog-post_26.html#comments

Vibha Rani ने कहा…

Mamta ji, yah to aur bhi achchhi baat hai. apane bachapan aur baton ka saamy man ko aahladit karta hai. aapke bare me aur janakar achchha lagega. mera id hai- gonujha.jha@gmail.com

DR.ANURAG ARYA ने कहा…

vah ji vah.....maja aa gaya.

Udan Tashtari ने कहा…

बहुत पहले कभी सुनी थी. फिर याद ताजा कराने का आभार.

Arun Sinha ने कहा…

Vibha Ji, many many thanks for acknowledging my post.Followings are my Id-
1. arunsinha7@gmail.com
2. readmenot.arunsinha@gmail.com

Moreover, my cultural org."PRANGAN",PATNA is very much close to the pivot artists of Maithili theatre of Bihar.It will be my pleasure if you witness our 25th PATLIPUTRA NATYA MAHOTSAVA to be held in FEB'2010 at kalidas Rangalaya,Patna,for which I am inviting you in advance.